क्रिकेट समाचार

क्रिकेट समाचार

time:2021-10-24 22:58:21 कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत? Views:4591

लाइव रूले चिकोटी क्रिकेट समाचार betway मोबाइल ऐप,लियोवेगास कैसीनो,lovebet 8 जानकारी,lovebet कैसे खेले,0.5 . के तहत lovebet,50/1 लवबेट,बैकरेट बोर्ड गेम,बैकारेट सिफारिश,best of Five.com,नकद सट्टेबाजी Baibo,गोवा में आज कैसीनो खुला,शतरंज टी शर्ट,क्रिकेट गुड़िया,दाफा पोकर ऑनलाइन,यूरोपीय कप फ्रांस,फुटबॉल विशेषज्ञ की सिफारिश,पैसे का अनुभव जीतने के लिए जुआ,खुश किसान वायलिन धीमा,indibet कानूनी है,जैकपॉट खेल xyz,नवीनतम विश्व फुटबॉल गीत,लाइव रूले ड्यूशलैंड,लॉटरी ऑनलाइन बुकिंग,मा लॉटरी ऑनलाइन,ऑनलाइन कैसीनो हैक सॉफ्टवेयर,भारत में ऑनलाइन जुआ,ऑनलाइन स्लॉट युनाइटेड स्टेट्स,पोकर ए 2,pokerstars.com डाउनलोड,रूले व्हील चयन योजना बेहतर है जब,रम्मी कमल,श शतरंज साझेदारी,स्लॉट ऑनलाइन मुफ्त,खेल अंडरवियर,तीन पत्ती क्रम,सबसे लोकप्रिय बोर्ड गेम,आभासी वास्तविकता क्रिकेट सिम्युलेटर,विश्व कप सट्टेबाजी नेटवर्क,असली पैसे का खेल cricket,कैटरीना तेरी आंखें,खेलो पर जुआ forms,जोकर जींस,पोकरस्टार्स क्या है,बेटा उपाय,लाटरी इन दिल्ली,स्टेटस शायरी, .कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

सैलरी बढ़ाने के लिए बातचीत करना यूं भी आसान नहीं होता है. मौजूदा स्थितियों में तो यह काम और भी मुश्किल हो गया है.
सैलरी बढ़ाने के लिए बातचीत करना यूं भी आसान नहीं होता है. फिर चाहे आप अपनी कंपनी में मौजूदा बॉस से चर्चा कर रहे हों या फिर नई जॉब ऑफर के लिए वहां के प्रबंधन से. इस दौरान तनाव रहता ही है. मौजूदा स्थितियों में जब कोरोना की महामारी के कारण काफी लोगों को सैलरी में कटौती और नौकरी गंवाने तक का सामना करना पड़ा है तो यह काम और भी मुश्किल हो गया है. आपको अगर इन स्थितियों का सामना नहीं करना पड़ा है. लेकिन, अपनी मौजूदा सैलरी में बढ़ोतरी या ज्‍यादा पैसे वाली नौकरी चाहते हैं, तो यह संभव है. इसके लिए आपको कुछ चीजें करनी होंगी. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

डेटा रखें तैयार
सबसे पहले आपको पूरे साल के दौरान किए गए कॉन्ट्रिब्‍यूशन को लिख लेना चाहिए. ये कॉन्ट्रिब्‍यूशन आपके कार्यक्षेत्र के अनुसार हो सकते हैं. मसलन, आपने सेल्‍स टारगेट पूरे किए हों, महत्‍वपूर्ण प्रोजेक्‍ट सफलता से निपटाया हो, अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी ली हो या कंपनी की कॉस्‍ट में अंतर पैदा किया हो इत्‍यादि. यह आपको सैलरी बढ़ाने के लिए अपना पक्ष रखने में मदद करेगा. आप बॉस के सामने साल का पूरा ब्‍योरा रख पाएंगे. इस तरह उनका फैसला हाल की घटनाओं पर निर्भर नहीं करेगा.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

मार्केट में अपनी वैल्‍यू जान लें
आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है. आपके अनुभव और स्किल्‍स से जुड़ी कितनी जॉब हैं. रिक्रूटमेंट कंसल्‍टेंट क्‍या आपको कॉल करते हैं और वे कितनी सैलरी ऑफर करते हैं.

कंपनी की जरूरत जानें
कोरोना के दौर में कंपनी की जरूरतों में बदलाव हुआ है. मुमकिन है कि जिस काम में आप बहुत अच्‍छे हों, उसमें कंपनी को लोगों की बहुत जरूरत न हो या उसमें काम घटा हो. देख लें कि आप कोर टीम का हिस्‍सा हैं या आपके बगैर ऑपरेशन चल सकते हैं.

तनाव कम करें
सैलरी पर बातचीत की जरूरत अमूमन साल में एक बार या फिर नौकरी बदलते वक्‍त पड़ती है. इस दौरान अगर आप तनाव में नहीं आते हैं तो अच्‍छा है. पर, ऐसा होता है तो अभ्‍यास जरूरी है. इसके लिए दोस्‍तों या परिवार के सदस्‍यों की मदद ले सकते हैं. अपने काम और जो सैलरी चाहते हैं, उस पर जब आप बार-बार बात करेंगे तो वास्‍तविक स्थिति आने पर तनाव कम रहेगा.

इसे भी पढ़ें : क्‍या आप एमबीए करना चाहते हैं? ये 6 बातें करेंगी आपकी मदद

सही समय चुनें
सैलरी बढ़ाने के लिए बॉस से बात करने का समय बेहद अहमियत रखता है. उस दिन ऐसी बात करना ठीक नहीं होगा जिस दिन उन्‍होंने लागत घटाने के लिए कुछ लोगों को बाहर किया हो या किसी प्रोजेक्‍ट को पूरा करने की डेडलाइन पास हो. अच्‍छा होगा कि ऐसी बातचीत टेलीफोन कॉल के बजाय आमने-सामने हो.

कमीशन और बोनस हैं ऑप्‍शन
सिर्फ वेतनवृद्धि विकल्‍प नहीं है. आप जितनी बढ़ोतरी चाहते हों, शायद कोई कंपनी उसका दोगुना देने के लिए तैयार हो सकती है. लेकिन, वह ईसॉप्‍स, बोनस या कमीशन के रूप में हो. उस स्थिति में पूछ लेना चाहिए कि ये कैसे काम करेंगे और इनका फायदा आप कैसे उठा पाएंगे.

पैसे के अलावा यह है विकल्‍प
अगर वेतन में बढ़ोतरी संभव नहीं है तो आप ऐसे दूसरे बेनिफिट देने के लिए कह सकते हैं जो आपके लिए मायने रखते हैं. इन पर कंपनी और आपकी सहमति होनी चाहिए. मसलन, आप बच्‍चे को स्‍कूल छोड़ने के लिए ऑफिस टाइमिंग को आधे घंटे शिफ्ट कराना चाहते हों. कोई अलग भूमिका चाहते हों या नए प्रोजेक्‍ट पर काम करने के इच्‍छुक हों.

(लेखक कर‍ियर कोच और मेंटर हैं.)

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीतकॉन्ट्रिब्‍यूशनडेटा रखें तैयारकाेराेना की महामारीवेतनवृद्धिरिक्रूटमेंट कंसल्‍टेंट

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Aviation

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf
Telecom

Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf

9 mins read
After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Investing

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक के खर्च वाली 438 परियोजनाओं की लागत में तय अनुमान से 4.3 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। देरी और अन्य कारणों की वजह से इन परियोजनाओं की लागत बढ़ी है। सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक लागत वाली बुनियादी ढांचा क्षेत्र की परियोजनाओं की निगरानी करता है। मंत्रालय की ताजा सितंबर, 2021 की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तरह की 1,670 परियोजनाओं मेंनयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) दोपहिया क्षेत्र की प्रमुख कंपनी होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) अगले वित्त वर्ष में अपना पहला इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) उतारने की तैयारी कर रही है। एचएमएसआई के अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) आत्सुशी ओगाता ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में यह जानकारी दी। कंपनी देश में एक्टिवा और शाइन जैसे लोकप्रिय ब्रांड बेचती है। इस साल त्योहारी सीजन समाप्त होने के बाद कंपनी अपने डीलर भागीदारों से इलेक्ट्रिक स्कूटर की व्यवहार्यता के बारे में चर्चा शुरू करेगी। उन्होंने कहा कि एचएमएसआई ने अपनी मूल कंपनी जापान की होंडा मोटर कंपनीकंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.टीसीएस ने छह महीनों में दूसरी बढ़ाई सैलरी, जानिए क्या है वजह?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
मेरी रम्मी क्लासिक

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) सरकार भारत बांड ईटीएफ की अगली किस्त दिसंबर तक ला सकती है। वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि सरकार भारत बांड ईटीएफ से दिसंबर तक 10,000 करोड़ रुपये जुटा सकती है। इस राशि का इस्तेमाल केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (सीपीएसई) की वृद्धि की योजना में किया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों की कोष की जरूरत का आकलन किया जा रहा है और एक्सचेंज ट्रेडेड कोष (ईटीएफ) की तीसरी किस्त को चालू कैलेंडर वर्ष के अंत से पहले पेश किया जाएगा। उन्होंने

पोकर योजना चुस्त

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) कंपनियों के तिमाही परिणाम इस सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा तय करेंगे। इसके अलावा डेरिवेटिव्स निपटान की वजह से भी बाजार में उतार-चढ़ाव रह सकता है। विश्लेषकों ने यह राय जताई है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा वैश्विक बाजारों के रुख से भी स्थानीय बाजार दिशा लेंगे। स्वस्तिका इनवेस्टमार्ट के शोध प्रमुख संतोष मीणा ने कहा, ‘‘यदि हम अगले सप्ताह के लिए संकेतकों की बात करें, तो कंपनियों के तिमाही नतीजे और अक्टूबर माह के वायदा एवं विकल्प निपटान से बाजार में उतार-चढ़ाव रह सकता है।’’ मीणा ने कहा कि सोमवार को बाजार रिलायंस

बैकरेट कैसीनो डाउनलोड

दुबई, 24 अक्टूबर (भाषा) भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को सोमवार से यहां इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की दो नयी टीमों की नीलामी प्रक्रिया शुरू होने के बाद प्रत्येक फ्रेंचाइजी से 7000 करोड़ रुपये से 10,000 करोड़ रुपये तक मिलने की उम्मीद है। अभी हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि बीसीसीआई नीलामी की बोली का तकनीकी मूल्यांकन करने के बाद सोमवार को ही सफल बोली लगाने वालों की घोषणा करेगा या नहीं। ऐसी 22 कंपनियां हैं, जिन्होंने 10 लाख रुपये के निविदा (टेंडर) दस्तावेज लिए हैं। नयी टीमों के लिए आधार मूल्य 2000 करोड़ रुपये रखा गया है। ऐसे में केवल

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के बारे में जीके

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) वैश्विक स्तर पर ऊर्जा संकट के बीच कतर के साथ अरबों डॉलर के एलएनजी आयात अनुबंध के नवीकरण के लिए बातचीत के दौरान भारत पुराने कार्गो की आपूर्ति की मांग रखेगा। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। पेट्रोनेट एलएनजी का कतरगैस के साथ 75 लाख टन का सालाना तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) का आयात करार 2028 में पूरा हो रहा है। इसके नवीकरण की पुष्टि पांच साल पहले करनी होगी। पेट्रोनेट के निदेशक (वित्त) वी के मिश्रा ने कहा कि नवीकरण पर बातचीत 2022 में शुरू होगी। उस समय कतरगैस के सामने 2015 के

टेक्सास होल्डम चीट शीट

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) सरकार भारत बांड ईटीएफ की अगली किस्त दिसंबर तक ला सकती है। वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि सरकार भारत बांड ईटीएफ से दिसंबर तक 10,000 करोड़ रुपये जुटा सकती है। इस राशि का इस्तेमाल केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (सीपीएसई) की वृद्धि की योजना में किया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों की कोष की जरूरत का आकलन किया जा रहा है और एक्सचेंज ट्रेडेड कोष (ईटीएफ) की तीसरी किस्त को चालू कैलेंडर वर्ष के अंत से पहले पेश किया जाएगा। उन्होंने

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी