ऑनलाइन गेमिंग प्लेटफार्म कंपनी

ऑनलाइन गेमिंग प्लेटफार्म कंपनी

time:2021-10-24 23:36:32 वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें? Views:4591

तीन पत्ती online game ऑनलाइन गेमिंग प्लेटफार्म कंपनी 10cric ट्रस्टपायलट,casumo समूह,लियोवेगास टेलीफ़ोननंबर,lovebet हमसे संपर्क करें,lovebet या lovebet,lovebet ज़र्कालो,क्या बैकारेट के बारे में कोई किताब है?,बैकारेट फ्रेंच ओवन,बैकारेट बनाम ब्लैकजासी.के.,बेटिंग मास्टर आईडी,कैसीनो सट्टेबाजी साइटों,कैसीनो वियतनाम,क्लासिक रम्मी बनाम ace2three,क्रिकेट लेन मिलफोर्ड एमए,बास्केटबॉल लवबेट,ezugi लाइव लाठी,आज टीवी पर फुटबॉल,उत्पत्ति कैसीनो साइन अप,फुटबॉल बाधा के एसपी मूल्य का विश्लेषण कैसे करें,आईपीएल खुलने की तारीख,जैकपॉट बनाम kl,लाइव लाठी वेगास,लॉटरी 13 तारीख का,लॉटरी.ई,एनबीए फुटबॉल लाइव,ऑनलाइन कैसीनो yggdrasil,ऑनलाइन पोकर कानूनी राज्य,पैरिमैच इंडिया विदड्रॉल लिमिट,पोकर का आविष्कार किया,रियल मनी बैकरेट गेम,पेमदास में शासन,रम्मी वेरिएंट जीरो,स्लॉट मशीन पृथ्वी पर आखिरी दिन,खेल 777,स्पोर्ट्सबुक किलर,टेक्सास होल्डम मल्टीप्लेयर,टीआर कैसीनो kıbrıs,नया बोर्ड गेम क्या है,वाई क्रिकेट ग्राउंड,ए बकरा की तिलावत,क्रिकेट fact,गोवा छठ पूजा,ढोका स्टेटस,फॉर्च्यून खजाना,बेटा श्रवण पानी तो पिला,लॉटरी बंगाल, .वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें?

आप जो एसेट क्‍लास चुनते हैं, वह उस लक्ष्‍य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप निवेश कर रहे हैं.
वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अपनी बचत को सही एसेट क्लास में निवेश करना जरूरी है. इन लक्ष्‍यों में बच्‍चों की शिक्षा, घर खरीदना, रिटायरमेंट इत्‍यादि शामिल हैं. लंबी अवधि में एसेट बनाने में दो एसेट क्‍लास - इक्विटी और डेट अहम भूमिका निभाते हैं. हालांकि, आप पूछें कि अपने लक्ष्‍यों को जल्‍दी से पाने के लिए इक्विटी और डेट फंड में से बेहतर कौन है तो जवाब शायद आसान नहीं होगा. सच तो यह है कि इन दोनों का कॉम्बिनेशन और सही इस्तेमाल लक्ष्‍यों को पाने में मदद करेगा.

आप जो एसेट क्‍लास चुनते हैं, वह उस लक्ष्‍य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप निवेश कर रहे हैं. यह फैसला आपकी उम्र, जोखिम लेने की क्षमता और बाजार की स्थितियों से भी तय होता है.

इसे भी पढ़ें : बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए. इक्विटी म्‍यूचुअल फंड अपने एसेट का 65 फीसदी इक्विटी या अन्‍य संबंधित प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं. लंबी अवधि में इक्विटी में अन्‍य एसेट क्‍लास के मुकाबले बेहतर रिटर्न पैदा करने की क्षमता होती है. साथ ही जब आप लंबी अवधि जैसे 10 साल या इससे ज्‍यादा के लिए इक्विटी में निवेश करते हैं तो अस्थिरता को जोखिम भी घटता है. ऐसे में 20 के पड़ाव में जो लोग हैं, उन्‍हें अपनी बचत का 80 फीसदी इक्विटी फंड में सिप के जरिये निवेश करना चाहिए अगर वे अपने रिटायरमेंट के लिए बचत कर रहे हैं.

लेकिन, आप 50 के पड़ाव में हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत कर रहे हैं तो आप इक्विटी में इतना भारी-भरकम निवेश नहीं कर सकते हैं. उस स्थिति में कोई अपनी बचत का 25 फीसदी से 40 फीसदी इक्विटी में निवेश कर सकता है. यह उनकी जोखिम लेने की क्षमता पर निर्भर करता है.

रिटायरमेंट के बाद भी इक्विटी म्‍यूचुअल फंडों में कुछ पैसा लगाए रहना चाहिए. यह महंगाई के असर को कम करता है. चूंकि एफडी और डेट प्रोडक्‍टों पर मौजूदा कम ब्‍याज दर के माहौल में रिटर्न घटा है. ऐसे में इक्विटी का कुछ निवेश इसकी भरपाई कर सकता है.

इसे भी पढ़ें : यूलिप और म्यूचुअल फंड में इन 5 बड़े अंतरों को जान लें, होगा फायदा

अगर आइडिया पूंजी की सुरक्षा है न कि ज्‍यादा रिटर्न तो डेट फंड सही विकल्‍प हैं. डेट फंडों में अस्थिरता कम होती है. हालांकि, रिटर्न कम होता है. डेट फंड कैटेगरी के भीतर भी अलग-अलग अस्थिरता और रिस्‍क प्रोफाइल वाले फंड होते हैं. लॉन्‍ग टर्म डेट फंड मुख्‍य रूप से लंबी अवधि के सरकारी बॉन्‍डों में निवेश करते हैं. कॉरपोरेट बॉन्ड फंड अर्थव्यवस्था में ब्‍याज दर के फ्लक्‍चुएशन को लेकर बहुत संवेदनशील होते हैं.

हालांकि, शॉर्ट-टर्म डेट फंड ब्‍याज दर के फ्लक्चुएशन को लेकर कम संवेदनशील होते हैं. कारण है कि ये छोटी अवधि के डेट इंस्‍ट्रूमेंट जैसे ट्रेजरी बिल, कमर्शियल पेपर इत्यादि में निवेश करते हैं. इस तरह के फंड उन लक्ष्‍यों के लिए मुफीद होते हैं जो एक से तीन साल दूर हैं. वहीं, इमर्जेंसी फंड बनाने जैसे बहुत छोटी अवधि के लक्ष्‍यों के लिए लिक्विड फंड या ओवरनाइट फंड उपयुक्‍त विकल्‍प हैं.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

डेट फंडइक्विटी फंडरिटायरमेंटएसेट क्‍लासवित्‍तीय लक्ष्‍य

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Aviation

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf
Telecom

Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf

9 mins read
After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Investing

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) कंपनियों के तिमाही परिणाम इस सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा तय करेंगे। इसके अलावा डेरिवेटिव्स निपटान की वजह से भी बाजार में उतार-चढ़ाव रह सकता है। विश्लेषकों ने यह राय जताई है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा वैश्विक बाजारों के रुख से भी स्थानीय बाजार दिशा लेंगे। स्वस्तिका इनवेस्टमार्ट के शोध प्रमुख संतोष मीणा ने कहा, ‘‘यदि हम अगले सप्ताह के लिए संकेतकों की बात करें, तो कंपनियों के तिमाही नतीजे और अक्टूबर माह के वायदा एवं विकल्प निपटान से बाजार में उतार-चढ़ाव रह सकता है।’’ मीणा ने कहा कि सोमवार को बाजार रिलायंसइस्लामाबाद, 24 अक्टूबर (भाषा) चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) प्राधिकरण के प्रमुख ने अमेरिका पर अरबों डॉलर की इस परियोजना को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। परियोजना को पाकिस्तान की आर्थिक जीवनरेखा करार दिया गया है।महत्वाकांक्षी सीपीईसी परियोजना 2015 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की पाकिस्तान यात्रा के दौरान शुरू की गयी थी।इसका उद्देश्य पश्चिमी चीन को सड़कों, रेलवे, और बुनियादी ढांचे एवं विकास की अन्य परियोजनाओं के नेटवर्क के माध्यम से दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ना है।सीपीईसी मामलों पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक खालिद मंसूर ने शनिवार को कराची में सीपीईसी शिखर सम्मेलन कोयूलिप और म्यूचुअल फंड में इन 5 बड़े अंतरों को जान लें, होगा फायदा

यूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.भारत में सरकार विपक्षी दलों और आलोचकों को परेशान करने के लिए नियमों का दुरुपयोग करती हैं। ट्रोलिंग, गालियां देना और सोशल मीडिया पर रेप या मारने की धमकी देना अब आम चलन हो गया है।विरोधियों को सबक सिखाने के लिए बंद करें FIR का उपयोग: स्वामीनाथन अय्यर

कोलकाता, 24 अक्टूबर (भाषा) पैनासोनिक इंडिया को त्योहारी सीजन के दौरान मांग अच्छी रहने की उम्मीद है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण अब नियंत्रण में है, ऐसे में त्योहारों के दौरान मांग मजबूत रहेगी। इसके अलावा कंपनी उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के तहत कम्प्रेसर और हीट एक्सचेंजरों के विनिर्माण के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश करने की तैयारी कर रही है। पैनासोनिक इंडिया के चेयरमैन एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) मनीष शर्मा ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘जून-सितंबर की तिमाही में हमने पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 18 प्रतिशत की वृद्धिनयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) छत्तीसगढ़ स्थित हीरा समूह की इकाई गोदावरी ई-मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड रायपुर में एक इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने के लिए 2023 तक 150 करोड़ रुपये तक निवेश करने की योजना बना रही है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कंपनी साथ ही दक्षिण और पश्चिम भारत के बाजारों में अपनी पहुंच को बढ़ाने के साथ नए उत्पादों को उतारने की भी तैयारी कर रही है। कंपनी वर्तमान में पूर्वी और उत्तर भारत के छह राज्यों में इब्लू ब्रांड के तहत बिजली से चलने वाले (इलेक्ट्रिक) तिपहियाकंपनियों के तिमाही नतीजे तय करेंगे बाजार की दिशा : विश्लेषक

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
परिमच मूवी ऐप

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) देश के शीर्ष 10 शहरों में ज्यादातर परिवार (करीब 60 प्रतिशत) त्योहारी सीजन में खर्च कर रहे हैं, लेकिन पेट्रोल और डीजल तथा अन्य आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से वे अपने बजट या मूल्य को लेकर सचेत हैं। रविवार को जारी एक सर्वेक्षण से यह पता चला है। ऑनलाइन मंच लोकलसर्किल्स ने अपने 'मूड ऑफ द कंज्यूमर' राष्ट्रीय सर्वेक्षण में शीर्ष 10 शहरों में 61,000 से अधिक परिवारों को शामिल करते हुए दावा किया है कि उपभोक्ता भावना में भारी सुधार हुआ है। सर्वेक्षण के अनुसार, त्योहारी सीजन 2021 के दौरान खर्च

कैसीनो एक्स आधिकारिक

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) डिश टीवी का 1,000 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू डीटीएच कंपनी के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कंपनी को तकनीक में बदलाव करते हुए पुराने सेट-टॉप बॉक्स (एसटीबी) को नई पीढ़ी के स्मार्ट बॉक्स से बदलने के लिए धन की आवश्यकता है, ताकि ग्राहक आधार को घटने से बचाया जा सके। अधिकारी ने कहा कि डिश टीवी दरअसल इंटरनेट माध्यम से देखे जाने वाले ओटीटी मंचों से प्रतिस्पर्धा का सामना कर रही है। सार्वजनिक प्रसारक दूरदर्शन के मुफ्त डीटीएच मंच की पहुंच

बैकारेट जीतने के तरीके

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

कोमो जुगर रम्मी क्लासिक

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.

क्रिकेट क्षेत्ररक्षण की स्थिति

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) दोपहिया क्षेत्र की प्रमुख कंपनी होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) अगले वित्त वर्ष में अपना पहला इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) उतारने की तैयारी कर रही है। एचएमएसआई के अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) आत्सुशी ओगाता ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में यह जानकारी दी। कंपनी देश में एक्टिवा और शाइन जैसे लोकप्रिय ब्रांड बेचती है। इस साल त्योहारी सीजन समाप्त होने के बाद कंपनी अपने डीलर भागीदारों से इलेक्ट्रिक स्कूटर की व्यवहार्यता के बारे में चर्चा शुरू करेगी। उन्होंने कहा कि एचएमएसआई ने अपनी मूल कंपनी जापान की होंडा मोटर कंपनी

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी