ऑनलाइन फुटबॉल सट्टेबाजी

ऑनलाइन फुटबॉल सट्टेबाजी

time:2021-10-25 00:15:37 अगले 3-6 महीने में कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच जाएगी कंपनियों की भर्ती : सर्वे Views:4591

जे स्पोर्ट्स 4 ऑनलाइन फुटबॉल सट्टेबाजी lovebet भरोसेमंद है,fun88 फेसबुक,lovebet 300,lovebet गूगल प्रमाणक,lovebet प्रायोजक,lovebetाफिश,बैकारेट ८८८विन,बकारट मियामी निवास,अफ्रीका में सर्वश्रेष्ठ पांच विश्वविद्यालय,बॉन्स ग्लासनेविन,कैसीनो मैं यूएसए,शतरंज 5 चाल चेकमेट,क्रिकेट ऐप्स,क्रिकेट वीडियो,एस्पोर्ट्स सिंगापुर,फ़ुटबॉल एक फ़ुटबॉल,मुफ्त बैकारेट ऑनलाइन,हैप्पी सिटी किसान हांगकांग,baccarat में नूडल्स कैसे देखें?,क्या बैकारेट में पैसा जीतने का कोई तरीका है?,केट योग्यता १८८बेट,लाइव कैसीनो साइट,लॉटरी इतिहास के परिणाम,लूडो सिकंदर,ऑनलाइन बैकरेट रिचार्ज,ऑनलाइन गेम लोगो मेकर फ्री,ऑनलाइन स्लॉट एक्टगेल्ड ओहने आइंज़ाहलुंग,पॉइंट रम्मी ऐप,पोकर यू प्रवे पारे,रूले हाउस एज,रम्मी 7 ऊपर नीचे,रम्मीकल्चर रेफरल कोड नंबर,स्लॉट 888 मुक्त,खेल कीड़ा,सबसे लंबा फुटबॉल खिलाड़ी,सबसे तेज़ बास्केटबॉल स्कोर,वाओ १८८बेट,कौन सा असली पैसा सिक बो गेम तेजी से निकालता है,cricket गेम डाउनलोड,ओल्ड गोवा का चर्च,क्रिकेट त्रिपुरा,चेस गेम कैसे खेला जाता है,थैंक्स स्टेटस,बरसात जानकारी,रमी क्लब,स्टेटस छत्तीसगढ़ी गाना, .अगले 3-6 महीने में कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच जाएगी कंपनियों की भर्ती : सर्वे

इस सर्वे में देशभर के 1,327 रिक्रूटर्स और कंसल्‍टेंट्स ने हिस्सा लिया.
मुंबई : बाजार में हालात सुधरने के साथ कंपनियां भी नए साल में रिकवरी को लेकर आशावान हैं. करीब 26 फीसदी रिक्रूटर्स (नियोक्ताओं) को उम्मीद है कि अगले 3-6 महीने में भर्तियां कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच सकती हैं.

वहीं, 34 फीसदी नियोक्ताओं का मानना है कि इसमें छह महीने से एक साल तक का समय लग सकता है. एक सर्वे में यह निष्कर्ष सामने आया है. रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : कितनी सेफ है आपकी जॉब? खतरों के इन 7 संकेतों के बारे में जान लें

कंपनी ने एक बयान में बताया कि इस सर्वे में देशभर के 1,327 रिक्रूटर्स और कंसल्‍टेंट्स ने हिस्सा लिया. नौकरी डॉट कॉम ने इसके अलावा अपने प्‍लेटफॉर्म पर उपलब्ध एक लाख से अधिक नियोक्ताओं के आंकड़ों का भी विश्लेषण किया.

कोविड से पहले का स्तर तय करने के लिए कंपनी ने जनवरी और फरवरी के रोजगार संबंधी आंकड़ों को आधार बनाया. सर्वेक्षण में पता चला कि मेडिकल/हेल्‍थकेयर, आईटी, बीपीओ/आईटीईएस जैसे उद्योगों पर कम प्रभाव पड़ा. लेकिन, खुदरा, हॉस्पिटैलिटी और ट्रैवल जैसे कुछ क्षेत्रों ने परिस्थिति का सामना करने में संघर्ष किया.

इसे भी पढ़ें : कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

इसमें कहा गया है कि 2020 की शुरुआत कुल मिलाकर सकारात्मक हुई. लेकिन, बाद में कोविड-19 ने इसे प्रभावित किया. लॉकडाउन के बाद इसमें ठहराव आया. पर, जून में अनलॉक की शुरुआत से ही रोजगार बाजार में सुधार भी होने लगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

नौकरी डॉट कॉमहायरिंग आउटलुक सर्वेरोजगार बाजारकोविड से पहले का स्‍तरभर्ती

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Aviation

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf
Telecom

Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf

9 mins read
After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Investing

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.निवेश की शुरुआत करने जा रहे हैं? जानिए कैसे उठाएं एक-एक कदम

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.ईटीएफ के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता हैटीसीएस ने छह महीनों में दूसरी बढ़ाई सैलरी, जानिए क्या है वजह?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
क्रिकेट का

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.

पोकर ए 2

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.

बैकारेट के सिद्धांत

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.

स्लॉट उपलब्ध

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.

10cric रजिस्टर

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी