दुनिया में शीर्ष 10 खेल सट्टेबाजी कंपनियां

दुनिया में शीर्ष 10 खेल सट्टेबाजी कंपनियां

time:2021-10-28 06:28:49 अगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे Views:4591

टसेपेल्लिन परिमाच दुनिया में शीर्ष 10 खेल सट्टेबाजी कंपनियां 10cric लॉगिन ऐप,casumo कैसीनो ऐप,लियोवेगास ऑनलाइन कैसीनो भारत,lovebet द्वि कांग्रेस एक बात,lovebet और स्लोवेनस्कु,lovebet याहू,एड्रेनालाईन रश फिशिंग,बैकरेट मनोरंजन पात्र,बैकारेट टाई पेआउट,सट्टेबाजी घुड़दौड़,कैसीनो एक 1$,कैसीनो बाघ,क्लासिक रम्मी मोबाइल ऐप डाउनलोड,क्रिकेट इंडिया इंग्लैंड,ई शतरंज का खेल,यूरोपीय फुटबॉल प्रबंधक,फुटबॉल सदस्य लॉगिन,उत्पत्ति कैसीनो लिंक्डइन,आप बैजिया कैसे नहीं ट्राई कर सकते?,आईपीएल हिंदी समाचार,जैकपॉट चयन,लाइव ब्लैकजैक ऑनलाइन फ्री,लाइव सिस बो खेल कौशल,लॉटरी विजेता,राष्ट्रीय फुटबॉल लॉटरी व्यापारी,ऑनलाइन कैसीनो रणनीति,ऑनलाइन पोकर हैक,परिमच एन,पोकर गेम ऐप,आर/अराजकता,डिक्री द्वारा नियम,रम्मी टूर,स्लॉट मशीन मुफ्त दा बार स्फिंक्स,खेल 11,स्पोर्ट्सबुक जुआ,कैसीनो नियमों में टेक्सास होल्डम,टॉम हिक्स क्रिकेट बुक,बैकारेट क्या है?,एक्स पोकर,इलेक्ट्रॉनिक खेल vidmate,कैसीनो मीनिंग इन हिंदी,गोवा ओ,झुमका स्टेटस इन हिंदी,फुटबॉल लाइव स्कोर,बेटा बेटी होने के लक्षण,लॉटरी चेक करने वाला ऐप्स,स्पोर्ट्स शॉप नियर में .अगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे

सर्वे के अनुसार, घरेलू बाजार में काम कर रही कंपनियों ने इस साल कर्मचारियों के वेतन में औसत 6.1 फीसदी की वृद्धि की.
नई दिल्ली : भारत में काम करने वाली करीब 87 फीसदी कंपनियां 2021 में कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने की योजना बना रही हैं. इसके मुकाबले 2020 में करीब 71 फीसदी कंपनियों ने ही वेतन में वृद्धि की. ग्‍लोबल प्रोफेशनल सर्विसेज फर्म एओन के सर्वे से इसका पता चलता है.

सर्वे के अनुसार, कोरोना संकट से प्रभावित अर्थव्यवस्था के दौर में घरेलू बाजार में काम कर रही कंपनियों ने इस साल कर्मचारियों के वेतन में औसत 6.1 फीसदी की वृद्धि की. यह पिछले एक दशक में सबसे निचला स्तर है. हालांकि, अगले साल औसत वेतनवृद्धि 7.3 फीसदी रहने का अनुमान है.

इसे भी पढ़ें : घर खरीदने के लिए क्‍या यह सबसे अच्‍छा समय है?

एओन की बुधवार को जारी सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में काम करने वाली कंपनियों ने कोविड-19 से जुड़ी चुनौतियों के बावजूद लचीलारुख दिखाया है. 2020 में करीब 71 फीसदी कंपनियों ने वेतन में वृद्धि की. जबकि 2021 में 87 फीसदी कंपनियां वेतनवृद्धि करने के पक्ष में हैं.

सर्वे के मुताबिक, भारत में औसत वेतनवृद्धि 2020 में 6.1 फीसदी रही. यह 2009 के 6.3 फीसदी के औसत से भी नीचे है. एओन के 'सैलरी ट्रेंड्स सर्वे इन इंडिया' में कहा गया है कि अगले साल कंपनियां वेतन में औसत 7.3 फीसदी की वृद्धि करेंगी. एओन ने इसके लिए 20 से अधिक इंडस्‍ट्रीज की 1,050 कंपनियों के बीच सर्वे किया था.

सितंबर-अक्टूबर 2020 की स्थिति तक 87 फीसदी कंपनियों ने 2021 में वेतनवृद्धि देने की प्रतिबद्धता जताई. जबकि इसमें 61 फीसदी कंपनियों ने कहा कि वे पांच से 10 फीसदी की वेतनवृद्धि देंगी.

इसे भी पढ़ें : होम लोन की मांग बढ़ने से बैंकों में छिड़ी ब्‍याज दर घटाने की जंग

वर्ष 2020 में 71 फीसदी कंपनियों ने वेतनवृद्धि दी. इसमें से 45 फीसदी ने पांच से 10 फीसदी के बीच वेतनवृद्धि दी. एओन में पार्टनर और सीईओ (परफॉर्मेंस एंड रिवॉर्ड सॉल्‍यूशंस) नितिन सेठी ने कहा, ''यह एक अनोखा साल है. कंपनियां अपने कर्मचारियों और ग्राहकों में निवेश कर रही हैं. कोविड-19 के गहरे असर के बावजूद कंपनियों ने कर्मचारियों को लेकर परिपक्‍व और लचीला रुख दिखाया है.''

हाई-टेक, आईटी, आईटीईएस, लाइफ साइंसेज, ई-कॉमर्स, केमिकल्‍स और प्रोफेशनल सर्विसेज ऐसे सेक्‍टरों में हैं जिनमें सबसे ज्‍यादा वेतनवृद्धि होने के आसार हैं.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

वेतनवृद्धिसैलरी ट्रेंड्स सर्वे इन इंडियाकंपन‍ियांएओनसैलरी में बढ़ोतरीसर्वे

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.कई ग्राहक मोरेटोरियम और उससे पड़ने वाले असर को नहीं समझते हैं. इसे देखते हुए कलेक्‍शन में बाधा आई है.कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.पेटीएम बिजनेस के विस्तार के लिए 1,000 लोगों की भर्ती करेगी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
ऑनलाइन स्लॉट सूची

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.

परिमच ऑफर

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

बेटा डीजे मना प्यार ला

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.

जी फुटबॉल खिलाड़ी

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.

गोवा घूमने का सीजन

2020 के पहले छह महीनों में केपजेमिनी ने 9,500 लोगों की भर्ती की है. सेकेंड हाफ में उसकी 13,500 लोगों को रिक्रूट करने की योजना है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी