टेक्सास होल्डम टेबल

टेक्सास होल्डम टेबल

time:2021-10-24 23:36:50 इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब Views:4591

क्रिकेट वर्दी डिजाइन टेक्सास होल्डम टेबल betway मोबाइल नंबर,लियोवेगास कैसीनो apk,lovebet 80/1,lovebet कन्नड़,०.५ के तहत lovebet अर्थ,500 रम्मी पॉइंट सिस्टम,बैकरेट बोर्ड गेम डाउनलोड,बैकारेट सिफारिशें,बेस्ट ऑफ फाइव्स डेंटिस्ट्री,नकद सट्टेबाजी कंपनी,कैसीनो खोलना,शतरंज टी शर्ट भारत,क्रिकेट डूडल,dafabet वर्चुअल क्रिकेट,यूरोपीय कप फ्रेंच फुटबॉल बेबी,फुटबॉल विशेषज्ञ स्कोर भविष्यवाणी,जुआ परीक्षण,हैप्पी किसान वायलिन ट्यूटोरियल,भारत में indibet कानूनी है,जैकपॉट गेम.एमएल 2 अंक,नवीनतम Wynn उच्च एजेंसी वेबसाइट,लाइव रूले डबलिन,लॉटरी ऑनलाइन गेम,मा लॉटरी परिणाम,ऑनलाइन कैसीनो हैक्स,ऑनलाइन जुआ आईपीएल,ऑनलाइन स्लॉट हमें,पोकर ए 3,pokerstars.com लॉगिन,रूले व्हिस्की,रमी भाग्यशाली,श क्रिकेट बल्ले,स्लॉट्स ऑनलाइन क्यू डाओ माईस दिनहिरो,खेल वर्दी,तीन पत्ती शेर,सबसे लोकप्रिय मंच,आभासी t10 क्रिकेट,विश्व कप सट्टेबाजी साइट,असली पैसे का खेल english translation,कैटरीना धर्मशाला,खेलो पर जुआ from,जोकर जैसी फ़िल्में,पोकरा योजना महाराष्ट्र,बेटा ऋतु,लाटरी इवनिंग रिजल्ट,स्टेटस शायरी attitude, .इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है.
पिछले कुछ समय से इंटरनेशनल फंड की बहुत चर्चा हो रही है. इसकी वजह इन फंडों में निवेशकों की बढ़ती दिलचस्पी है. हालांकि, अब भी निवेशकों को ऐसे फंड़ों के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है. इंटरनेशनल फंड का मतलब क्या है? क्या इन फंडों में निवेश का क्या फायदा है? क्या आपको इस फंड में निवेश करना चाहिए? आइए इन सवालों का जवाब जानने की कोशिश करते हैं.

इंटरनेशनल फंड में आपको क्यों निवेश करना चाहिए?
जोखिम घटाने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंडों के पोर्टोफोलियो का डायवर्सिफिकेशन जरूरी है. डायवर्सिफिकेशन का मतलब अलग-अलग तरह के फंडों में निवेश है. कई बार भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहता है, जबकि विदेशी बाजार का प्रदर्शन अच्छा होता है. दुनिया के कई बाजारों का भारत से ज्यादा संबंध नहीं है. ऐसे में इंटरनेशनल फंड में निवेश से डायवर्सिफिकेशन में मदद मिलती है. इससे आपका जोखिम घट जाता है.

निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड में निवेश के लिए कौन-कौन से विकल्प हैं?
आज भारतीय निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड के कई विकल्प हैं. ये देश, क्षेत्र, थीम और टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं. कोई भारतीय निवेशक रुपये में इन इंटरनेशनल फंडों में निवेश कर सकता है. आप सामान्य म्यूचुअल फंड की तरह इंटरनेशनल फंड का चुनाव कर उसमें ऑनलाइन या ऑफलाइन निवेश कर सकते हैं.

इंटरनेशनल फंड किस तरह विदेशी शेयरों में निवेश करते हैं?
भारतीय बाजार में मौजूद इंटरनेशनल फंड सीधे विदेशी कंपनियों के शेयरों में या विदेश के दूसरे फंडों में निवेश करते हैं. दूसरे फंडों में निवेश को फीडर रूट कहा जाता है. यह एक तरह से फंड ऑफ फंड की तरह है.

यह भी पढ़ें : एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

इंटरनेशनल फंडों के रिटर्न पर किस तरह टैक्स लगता है?
टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है. टैक्स की दर निवेशक के टैक्स स्लैब के अनुसार होती है. तीन साल से ज्यादा वक्त तक फंड में निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इंडेक्सेशन का फायदा मिलता है. इसकी वजह यह है कि इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस माना जाता है. इंडेक्सेशन के बाद टैक्स की दर 20 फीसदी होती है.

क्या इंटरनेशनल फंड में निवेश करने में बहुत जोखिम है?
शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा ऐसे फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है. भारत में निवेशक रुपये में निवेश करता है. लेकिन, म्यूचुअल फंड कंपनी को उस देश की मुद्रा में इंटरनेशनल फंड में निवेश करना पड़ता है, जहां का वह फंड होता है. इसलिए इंटरनेशनल फंड में निवेश करने से पहले आपको करेंसी में होने वाले उतार-चढ़ाव के जोखिम के लिए तैयार रहना होगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

इंटरनेशनल फंडडेट फंडइक्विटी म्यूचुअल फंडम्यूचुअल फंडफंड ऑफ फंड

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Aviation

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf
Telecom

Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf

9 mins read
After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Investing

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) छत्तीसगढ़ स्थित हीरा समूह की इकाई गोदावरी ई-मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड रायपुर में एक इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने के लिए 2023 तक 150 करोड़ रुपये तक निवेश करने की योजना बना रही है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कंपनी साथ ही दक्षिण और पश्चिम भारत के बाजारों में अपनी पहुंच को बढ़ाने के साथ नए उत्पादों को उतारने की भी तैयारी कर रही है। कंपनी वर्तमान में पूर्वी और उत्तर भारत के छह राज्यों में इब्लू ब्रांड के तहत बिजली से चलने वाले (इलेक्ट्रिक) तिपहियाइस्लामाबाद, 24 अक्टूबर (भाषा) चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) प्राधिकरण के प्रमुख ने अमेरिका पर अरबों डॉलर की इस परियोजना को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। परियोजना को पाकिस्तान की आर्थिक जीवनरेखा करार दिया गया है।महत्वाकांक्षी सीपीईसी परियोजना 2015 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की पाकिस्तान यात्रा के दौरान शुरू की गयी थी।इसका उद्देश्य पश्चिमी चीन को सड़कों, रेलवे, और बुनियादी ढांचे एवं विकास की अन्य परियोजनाओं के नेटवर्क के माध्यम से दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ना है।सीपीईसी मामलों पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक खालिद मंसूर ने शनिवार को कराची में सीपीईसी शिखर सम्मेलन कोलगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

दुबई, 24 अक्टूबर (भाषा) भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को सोमवार से यहां इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की दो नयी टीमों की नीलामी प्रक्रिया शुरू होने के बाद प्रत्येक फ्रेंचाइजी से 7000 करोड़ रुपये से 10,000 करोड़ रुपये तक मिलने की उम्मीद है। अभी हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि बीसीसीआई नीलामी की बोली का तकनीकी मूल्यांकन करने के बाद सोमवार को ही सफल बोली लगाने वालों की घोषणा करेगा या नहीं। ऐसी 22 कंपनियां हैं, जिन्होंने 10 लाख रुपये के निविदा (टेंडर) दस्तावेज लिए हैं। नयी टीमों के लिए आधार मूल्य 2000 करोड़ रुपये रखा गया है। ऐसे में केवलसक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

हम सीनियर सिटीजन के लिए निवेश के पांच ऐसे विकल्प बता रहे हैं जिससे उनकी मेहनत की कमाई पर अच्छी नियमित आय आती रहे.वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.एनसीएलएटी का एनसीएलटी को वीडियोकॉन के दो पूर्व अधिकारियों को सुनवाई का मौका देने का निर्देश

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
क्रिकेट आभासी पृष्ठभूमि

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) डिश टीवी का 1,000 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू डीटीएच कंपनी के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कंपनी को तकनीक में बदलाव करते हुए पुराने सेट-टॉप बॉक्स (एसटीबी) को नई पीढ़ी के स्मार्ट बॉक्स से बदलने के लिए धन की आवश्यकता है, ताकि ग्राहक आधार को घटने से बचाया जा सके। अधिकारी ने कहा कि डिश टीवी दरअसल इंटरनेट माध्यम से देखे जाने वाले ओटीटी मंचों से प्रतिस्पर्धा का सामना कर रही है। सार्वजनिक प्रसारक दूरदर्शन के मुफ्त डीटीएच मंच की पहुंच

betway न्यू अकाउंट बोनस

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

गोवा धार्मिक स्थल

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) अक्टूबर में अबतक भारतीय बाजारों में शुद्ध बिकवाल बने हुए हैं। उन्होंने अक्टूबर में भारतीय बाजारों से 3,825 करोड़ रुपये की निकासी की है। इससे पिछले दो माह में एफपीआई ने ऋण या बांड बाजार में जबर्दस्त निवेश किया था। उन्होंने सितंबर में बांड बाजार में 13,363 करोड़ रुपये और अगस्त में 14,376.2 करोड़ रुपये डाले थे। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर में एफपीआई ने अभी तक बांड बाजार से 1,494 करोड़ रुपये निकाले हैं। इसी तरह उन्होंने शेयरों से 2,331 करोड़ रुपये की निकासी की है। इस

बैकरेट ड्रैगन टाइगर कौशल

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

ऑनलाइन कैसीनो हैक APK

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

संबंधित जानकारी
क्रिसमस जानेमन ™

इस्लामाबाद, 24 अक्टूबर (भाषा) चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) प्राधिकरण के प्रमुख ने अमेरिका पर अरबों डॉलर की इस परियोजना को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। परियोजना को पाकिस्तान की आर्थिक जीवनरेखा करार दिया गया है।महत्वाकांक्षी सीपीईसी परियोजना 2015 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की पाकिस्तान यात्रा के दौरान शुरू की गयी थी।इसका उद्देश्य पश्चिमी चीन को सड़कों, रेलवे, और बुनियादी ढांचे एवं विकास की अन्य परियोजनाओं के नेटवर्क के माध्यम से दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ना है।सीपीईसी मामलों पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक खालिद मंसूर ने शनिवार को कराची में सीपीईसी शिखर सम्मेलन को

गरम जानकारी
बैकरेट स्थिर कमाई धोखा देती है

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) को वीडियोकॉन टेलीकम्युनिकेशंस के दो पूर्व अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के मामले पर "नये सिरे से ध्यान देने" और उन्हें सुनवाई का मौका देने के बाद नया आदेश जारी करने का निर्देश दिया है। इन दोनों पूर्व अधिकारियों की संपत्तियां और बैंक खातों पर रोक लगी हुई है। एनसीएलएटी ने एनसीएलटी की मुंबई पीठ को "निष्पक्ष, न्यायसंगत, संयमशील तरीके से गुण के आधार पर, नए सिरे से" जल्द ही जरूरी नया आदेश जारी करने का निर्देश देते कहा कि उसने (एनसीएलटी) "नैसर्गिक न्याय के

रूले क्स्प ff14

इस्लामाबाद, 24 अक्टूबर (भाषा) चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) प्राधिकरण के प्रमुख ने अमेरिका पर अरबों डॉलर की इस परियोजना को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। परियोजना को पाकिस्तान की आर्थिक जीवनरेखा करार दिया गया है।महत्वाकांक्षी सीपीईसी परियोजना 2015 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की पाकिस्तान यात्रा के दौरान शुरू की गयी थी।इसका उद्देश्य पश्चिमी चीन को सड़कों, रेलवे, और बुनियादी ढांचे एवं विकास की अन्य परियोजनाओं के नेटवर्क के माध्यम से दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ना है।सीपीईसी मामलों पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक खालिद मंसूर ने शनिवार को कराची में सीपीईसी शिखर सम्मेलन को

क्रिप्टो का उपयोग कर सट्टेबाजी

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) को वीडियोकॉन टेलीकम्युनिकेशंस के दो पूर्व अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के मामले पर "नये सिरे से ध्यान देने" और उन्हें सुनवाई का मौका देने के बाद नया आदेश जारी करने का निर्देश दिया है। इन दोनों पूर्व अधिकारियों की संपत्तियां और बैंक खातों पर रोक लगी हुई है। एनसीएलएटी ने एनसीएलटी की मुंबई पीठ को "निष्पक्ष, न्यायसंगत, संयमशील तरीके से गुण के आधार पर, नए सिरे से" जल्द ही जरूरी नया आदेश जारी करने का निर्देश देते कहा कि उसने (एनसीएलटी) "नैसर्गिक न्याय के